एनडीडीबी द्वारा चारा बीज उत्पादन सुदृढ़ीकरण पर कार्यशाला का आयोजन

आणंद, 12 फरवरी 2018: श्री दिलीप रथ, अध्यक्ष, राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) ने 12 फरवरी 2018 को डॉ. कुरियन सभागार में चारा बीज उत्पादन सुदृढ़ीकरणएवं विपणन के जरिए हरा चारा उत्पादन में वृद्धि पर एक राष्ट्रीय कार्यशाला का उद्घाटन किया । दूध संघों/ महासंघों, डेरी सहकारिताओं के बीज प्रसंस्करण संयंत्रों, आईजीएफआरआई, डीएडीएफ और एनडीडीबी के अधिकारियों ने हरा चारा उत्पादन वृद्धि हेतु रोडमैप तैयार करने से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया । 

हरा चारा पशुधन के लिए पोषक तत्वों का एक महत्वपूर्ण और किफायती स्रोत है । आर्थिक और सांख्यिकी निदेशालय, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार ने चारा उत्पादन के लिए 9.2 मिलियन हैक्टेयर भूमि के प्रयोग के साथ स्थायी चारागाह और आम चारागाह भूमि के लिए अन्य 10.3 मिलियन हैक्टेयर भूमि को प्रयोग में लाए जाने की सूचना दी है । इसलिए देश में उपलब्ध उन्नत चारा उत्पादन प्रौद्योगिकियों के जरिए चारा उत्पादन के लिए मौजूदा भूमि से उत्पादन वृद्धि और हरे चारे की व्यापक उपलब्धता की व्यापक संभावना है । देश में हरे चारे की उत्पादकता में कमी होने का एक महत्वपूर्ण कारण चारा फसलों की विभिन्न नई अधिसूचित किस्मों के प्रमाणित/ गुणवत्तायुक्त बीजों की अनुपलब्धता है । 

एनडीडीबी ने राष्ट्रीय डेरी योजना चरण-I के अंतर्गत 5 स्थलों समेत 15 स्थलों पर चारा बीज उत्पादन, प्रसंस्करण, भंडारण एवं विपणन हेतु अपेक्षित बुनियादी ढाचे के निर्माण में सहयोग प्रदान किया है । देश के विभिन्न भागों में डेरी सहकारिताओं के साथ इस बुनियादी ढाचे की स्थापना की गई थी जिससे कि विभिन्न कृषि – जलवायु परिस्थितियों के अनुकूल विभिन्न प्रकार के चारा बीजों का उत्पादन किया जा सके । डेरी सहकारिताओं द्वारा कुल चारा बीजों का उत्पादन लगभग 4000 मीट्रिक टन है और महत्वपूर्ण इनपुट के रूप में गुणवत्तायुक्त चारा बीजों की बढ़ती आवश्यकता को पूरा करने के लिए हरे चारे के उत्पादन और उपलब्धता वृद्धि में और तेजी लाने की आवश्यकता है । 

कार्यशाला के दौरान दी गई प्रस्तुतियों ने भारतीय चारा परिदृश्य और डेरी सहकारिताओं में चारा बीजों के उत्पादन एवं विपणन कार्यक्रमों में तेजी लाने संबंधी रणनीतियों; चारा उपलब्धता में वृद्धि के जरिए पशुधन उत्पादन में वृद्धि; चारा बीजों के बीज कोटिंग प्रौद्योगिकियों के महत्त्व और हाल की घटनाओं; चारा बीज उत्पादन एवं विपणन में सहायक डीएडीएफ की योजनाओं; बीज उत्पादन प्रौद्योगिकियों और डीसीएस स्तर पर चारा बीजों के वितरण को रेखांकित किया ।